जानें 18000 फुट की ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड महादेव यात्रा के विशेष महत्व के बारे में !


जानें 18000 फुट की ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड महादेव यात्रा के विशेष महत्व के बारे में !
                        सभी शिव भक्तों के लिए करीबन 18 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड महादेव की यात्रा काफी अहमियत रखती है। शिव जी के सभी प्रमुख पांच धार्मिक स्थलों में से श्रीखंड महादेव की यात्रा जितनी महत्वपूर्ण मानी जाती है उतना मुश्किल है वहां तक पहुँचना और यात्रा को सफल बनाना। आइये जानते हैं आखिर क्या है श्रीखंड महादेव यात्रा का महत्व और किस प्रकार से श्रद्धालु पहुँच सकते हैं वहां।

श्रीखंड यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं को ये जोखिम उठाने पड़ सकते हैं
                   चूँकि श्रीखंड महादेव 18 हज़ार 500 फुट की ऊंचाई पर स्थित है लिहाजा वहां यात्रा के दौरान ऑक्सीजन की कमी होना लाज़मी है। इतनी ऊंचाई पर मोबाइल नेटवर्क की भी कमी रहती है जिस वजह से इमरजेंसी की स्थिति में बचाव कार्य भी मुश्किल हो जाता है। ख़राब मौसम और बर्फ़ीले रास्तों की वजह से श्रीखंड महादेव तक पहुंचना लोगों के लिए काफी मुश्किल हो जाता है।
श्रीखंड महादेव यात्रा के दौरान इन बातों का रखें ख्याल
§  इस यात्रा में शारीरिक और मानसिक रूप से फिट होने के बाद ही शामिल हों।
§  यात्रा में शामिल होने के लिए अपना रजिस्ट्रेशन जरूर करवाएं।
§  इस यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन करवाते वक़्त अपने परिवार के सदस्यों का पता और कांटेक्ट नंबर देना ना भूलें।
§  श्रीखंड महादेव की यात्रा के लिए हमेशा समूह में ही जाएँ।
§  यात्रा के दौरान किसी प्रकार की नशीली वस्तु का सेवन ना करें।
§  इस दौरान गर्म कपड़े, खाने पीने का सामान और फर्स्ट ऐड बॉक्स अपने साथ जरूर रख लें।
श्रीखंड महादेव यात्रा का महत्व
                 श्रीखंड में श्रीखंड महादेव का करीबन 72 फुट ऊँचा बड़ा शिवलिंग है। हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार श्रीखंड में ही शिवजी का वास्तविक वास है। इसलिए हर साल श्रीखंड यात्रा का आयोजन किया जाता है जिसके ज़रिये शिव भक्त श्रीखंड पहुंचकर वहां शिवलिंग पर जल चढ़ाते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ