जानें एक ऐसे मंदिर के बारे में, जहाँ महिला पुजारी कराती हैं पूजा ! - "अश्वमेध भारत"

Top 10 News

शनिवार, 23 नवंबर 2019

जानें एक ऐसे मंदिर के बारे में, जहाँ महिला पुजारी कराती हैं पूजा !


जानें एक ऐसे मंदिर के बारे मेंजहाँ महिला पुजारी कराती हैं पूजा !
                     भारत एक ऐसा देश हैजहाँ कई धर्म के लोग एक साथ रहते हैं। जहाँ एक तरह यहाँ सभी धर्म के लोगों को अपने-अपने देवी-देवता की पूजा करने की आज़ादी हैवहीँ इन्हें कुछ चीज़ों की मनाही भी होती है। एक तरफ जहां देश की कई प्रसिद्ध मंदिरों में महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध है वहींदूसरी तरफ कुछ मंदिर ऐसे भी हैं जहां कि पुजारी महिलाएं हैं। आज इस लेख में हम आपको एक ऐसे ही एक मंदिर के बारे में बताएँगे जहाँ महिला पुजारी पूजा कराती हैं। तो चलिए जानते हैं इस अनोखे मंदिर के बारे में -

कहां बसा है यह मंदिर
                     यह अनोखा मंदिर बिहार राज्य के दरभंगा जिले के कमतौल में स्थित है। इस मंदिर में “देवी अहिल्या” की पूजा की जाती है। माना जाता है कि ये वही मंदिर हैजहां भगवान राम ने देवी “अहिल्‍या” का उद्धार किया था। त्रेतायुग में जन्मी देवी अहिल्या जो कि गौतम ऋषि की पत्नी थीउनका उद्धार भगवान राम के चरणों के स्पर्श से हुआ था। इस घटना का वर्णन रामायण में मिलता हैजिसमें कहा जाता है कि एक बार भगवान राम जनकपुर जा रहे थे तब रास्ते में उनका पैर जैसे ही एक शिला पर पड़ावह शिला जीवित स्त्री में बदल गई। यह स्त्री कोई और नहीं बल्कि “देवी अहिल्या” थीं।

यह है इस मंदिर की विशेषता
                     इस मंदिर में रामनवमी के दिन अनोखी परंपरा देखी जाती है। यहां श्रद्धालु मंदिर में सुबह से ही बैंगन का भार लेकर पहुंचते हैं और राम और अहिल्या के चरणों में इसे चढ़ाते हैं। इस दिन मंदिर में हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं।  यह मंदिर श्राप मुक्ति स्थल भी कहा जाता है। लोग यहाँ आकर मनौती मांगते हैंऔर पूरी हो जाने पर बैंगन का चढ़ावा चढ़ाते हैं।

                     उसी तरह कहा जाता है कि यदि किसी व्यक्ति के शरीर में अहिला हैतो वो रामनवमी के दिन गौतम और अहिल्या स्थान कुण्ड में स्नान करकंधे पर बैंगन का भार लेकर मंदिर आये और बैंगन का भार चढ़ा देतो उसे अहिला रोग से मुक्ति मिल जाती है। अहिला देखने में मस्से जैसा होता हैजो इंसान के शरीर के किसी भी बाहरी हिस्से में हो जाता है। 

महिला पुजारी कराती हैं पूजा
                     जहां भगवान राम ने अहिल्या का उद्धार किया थावहां आज भी उनकी पीढ़ी मौजूद है और यहाँ पुरुषों की जगह महिला पुजारी ही पूजा कराती हैं। इस धार्मिक स्थल पर भारत के विभिन्न हिस्सों के साथ ही साथ पड़ोसी देश नेपाल से भी हजारों श्रद्धालु पहुंचते हैं और पूजा-अर्चना करते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें