जानिए उपवास रखने का धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व। - "अश्वमेध भारत"

Top 10 News

रविवार, 24 नवंबर 2019

जानिए उपवास रखने का धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व।


जानिए उपवास रखने का धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व।
           सनातन धर्म में लोग अक्सर श्रद्धा, भक्ति और अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति हेतु व्रत उपवास रखते आ रहे हैं। जहाँ व्रत रखने का धर्मिक महत्व होता है, तो वहीँ व्रत या उपवास वैज्ञानिक रूप से भी रखा जाना विशेष फलदायी मन गया है। जी हाँ आज आध्यात्मिक रूप के साथ-साथ विज्ञान भी व्रत-उपवास की सलाह देता है। रखना फायदेमंद है और आध्यात्म भी कहता है कि व्रत और उपवास रखना लाभकारी होता है।

           कुछ लोग उपवास रखना धार्मिक परंपरा का निर्वहन करना मानते हैं जबकि कुछ लोग इसे सेहत के लिए भी अच्छा मानते हैं। उपवास रखना वैसे तो हर व्यक्ति की अपनी धार्मिक श्रद्धा का प्रतीक होता है लेकिन यदि इसे अपनी जीवनशैली में शुमार किया जाए तो आपको कई फायदे मिल सकते हैं। आज हम आपको उपवास रखने के कुछ ख़ास लाभों के बारे में बताने जा रहे हैं जो की ना केवल धार्मिक दृष्टिकोण से फलदायी है बल्कि इसके कुछ वैज्ञानिक महत्व भी हैं।

उपवास रखने का धार्मिक महत्व
           हिन्दू धर्म में व्रत/उपवास रखना ख़ासा मायने रखता है इसे धार्मिक आस्था का विषय माना जाता है। हिन्दू धर्म को मानने वाले किसी ख़ास उद्देश्य की पूर्ती के लिए अपने आराध्य देव के नाम का व्रत रखते हैं। उपवास दो तरह के होते हैं, एक जिसमें व्यक्ति पूरे दिन बिना खाये पिये रहता है और शाम एक वक़्त पूजा अर्चना कर व्रत को खोलता है। उपवास के दूसरे नियम के अनुसार व्यक्ति पूरे दिन रात केवल फलाहार करता है और अगले दिन अपना व्रत खोलता है। इस प्रकार के व्रत मासिक शिवरात्रि, एकादशी आदि के दिन किये जाते हैं।

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से जानें उपवास रखने के प्रमुख फायदों के बारे में
·        उपवास या व्रत रखने के दौरान शरीर में चर्बी गलने की प्रक्रिया तेज हो जाती है और चर्बी तेजी से साथ गलने लगती है।
·        इस दौरान शरीर से लेप्टिन नाम के फैट सेल्स हॉर्मोन का स्त्राव होता है। उपवास के दौरान शरीर को कैलोरी ना मिल पाने की वजह से इसकी सक्रियता कम हो जाती है जिससे वजन घटाने में मदद मिलती है।
·        उपवास या व्रत के दौरान कुछ पौष्टिक चीजों को लेना भी बेहद आवश्यक माना जाता है। कुछ लोग व्रत खोलने के तुरंत बाद पेट भरकर उच्च कैलोरी वाले खाद्य पदार्थ खाना शुरू कर देते हैं। जबकि यदि व्रत खोलने के बाद हेल्दी और कम कैलोरी युक्त भोजन ग्रहण किया जाए तो से चर्बी ज्यादा तेजी से घटती है।
·        उपवास रखने से कुछ डिप्रेशन और मासिक तनाव आदि से भी निजात मिल सकता है।
·        इसके साथ ही व्रत रखने से पाचन क्रिया भी तेज हो जाती है।

इस जानलेवा बीमारी से बचना हो सकता है संभव
           आपको बता दें कि एक वैज्ञानिक रिसर्च से इस बात का पता चला है कि व्रत रखने के काफी हद तक कैंसर जैसे जानलेवा बीमारी से बचाव किया जा सकता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस बीमारी से कैंसर के वो मरीज जिनका कीमोथेरपी चल रहा हो उनके लिए मुख्यतौर पर व्रत रखना काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें