काशी में इस प्रकार से मनायी जाती है देव दीपावली। - "अश्वमेध भारत"

Top 10 News

शुक्रवार, 25 अक्तूबर 2019

काशी में इस प्रकार से मनायी जाती है देव दीपावली।


काशी में इस प्रकार से मनायी जाती है देव दीपावली।


                        दीपावली उत्सव की छटा हर तरफ़ दिखने लगी है। दरवाजे पर दस्तक दे रहे दीपावली उत्सव के चलते बाज़ारों में भी रौनक है। हिन्दू धर्म का यह बड़ा त्यौहार है। इस त्यौहार के साथ ही धनतेरस, नरक चतुर्दशी, गोवर्धन पूजा एवं भैया दूज जैसे पर्व भी आते हैं। इस साल दीपावली पर्व 27 अक्टूबर को मनाया जाएगा।
                       रौशनी के इस पर्व में लोग पटाखें, एवं दीपक जलाते हैं और एक-दूसरे को मिठाई बांटते हैं। दीपावली पर्व के बारे में तो आप सभी जानते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि उत्तर प्रदेश के एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल पर दीपावली मनाने स्वयं देवताओं का आगमन होता है। इस दीपावली को देव दीपावली के नाम से जाना जाता है, जो दुनिया के सबसे प्राचीन शहर काशी में मनायी जाती है।
कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को मनायी जाती है देव दीपावली
देव दीपावली, दीपावली  पर्व से 15 दिन बाद मनायी जाती है। हिन्दू पंचांग के अनुसार देव दीपावली का त्यौहार कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है। जबकि दीपावली इससे पहले इसी माह की अमावस्या तिथि को मनायी जाती है। इस वर्ष देव दीपावली 12 नवंबर को पड़ रही है। वैसे तो यह त्यौहार कई राज्यों में मनाया जाता है किंतु इस पर्व का सबसे ज्यादा उत्साह बनारस में देखने को मिलता है।
काशी में इसलिए मनाई जाती है देव दीपावली
प्रचलित मान्यता के अनुसार, ऐसा कहा जाता है कि कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि के दिन भगवान शंकर जी ने राक्षस त्रिपुरासुर का वध किया था। इसी खुशी में देवाओं ने इस दिन स्वर्ग लोक में दीपक जलाकर जश्न मनाया था। इसके बाद से हर साल इस दिन को देव दीपावली के रुप में मनाया जाता है। इस दिन पूजा का विशेष महत्व होता है।
इस त्योहार को लेकर यह भी मान्यता है कि इस दिन देवता पृथ्वी पर आते हैं। इस माह में ब्रह्मा, विष्णु, शिव, अंगिरा और आदित्य आदि ने महापुनीत पर्वों को प्रमाणित किया है, जिस वजह से कार्तिक पूर्णिमा के पूरे महीने को काफी पवित्र माना जाता है।
मान्यता है कि जब पृथ्वी का निर्माण हुआ तो सूर्य की पहली किरण इसी पावन काशी नगरी की धरती पर पड़ी थी। परंपराओं और संस्कृतियों से रची-बसी काशी की देश दुनिया में पहचान बाबा विश्वनाथ, गंगा और उसके पावन घाटों से है। इन्हीं सब कारणों के चलते देवता गण यहाँ दीपावली उत्सव मनाने आते हैं।
देव दीपावली पर दुल्हन की तरह सजते हैं गंगा घाट
देव दीपावली पर काशी के घाटों को दुल्हन की तरह सजाया जाता है। इसी सजावट के कारण यहाँ पर मनायी जाने वाली देव दीपावली में हर वर्ष लाखों तीर्थ यात्री एवं भक्त शामिल होते हैं। इसके अलावा दशाश्वमेध घाट पर अमर जवान ज्योति पर फूल से देश के शहीदों को सम्मान देने के क्रम में एक कार्यक्रम होता है। घाटों पर विशाल सभा की, पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था की उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा की जाती है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें