मानसिक तनाव से बचने के 7 सरल उपाय


मानसिक तनाव से बचने के 7 सरल उपाय
             तनाव जीवन का अभिन्न अंग है। संतुलित तनाव वीणा के तारों के कसाव की तरह हैजिससे जीवन का मधुर संगीत जन्म लेता है। उसके बिना जीवन बिलकुल एकरस एवं एकसार हो जाता है और सृजनात्मकता जैसे खो जाती है। लेकिन तनाव इतना सघन हो जाए कि जीवन-वीणा के तार उससे टूटने लगेंतो वह तनाव भला किस काम का !
             पर आज के जीवन में तनाव इतना रच-बस गया है कि तनाव-रुग्णता के लक्षण हर तरफ नजर आते हैं। ऊँची आवाजेंजरा-जरा सी बात पर झुंझलाहटबेचैनीक्रोधित अंतर्मन तनाव के ऐसे चिह्न हैंजिनसे आए दिन हमारा सामना होता है।
             सच पूछे तो तनाव की अपनी एक विशिष्ट भाषा है। कोई इसे समझ ले तो वह बहुत आसानी से भाँप सकता है कि कौन-कब तनाव से घिरा है। सघन तनाव कई प्रकार से प्रत्यक्षीभूत होता है। भाव-भंगिमाव्यवहार और शरीर के आंतरिक अंगों से आ रहे संकेत भीतर की व्यथा साफ कह देते हैं।
           मांसपेशियों में भर आया तनाव कई तरह से व्यक्त होता है। बल खाया माथातनी हुई भृकुटियाँभिंचे दाँतबाहर की तरफ खिंचा हुआ जबड़ाभिंचे हुए कंधेतनी मुट्ठियाँमुट्ठियों में भिंचे अँगूठेएक-दूसरे पर बल खाती टाँगेंएक-दूसरे को बाँधती पेट के आगे तनी बाँहें-सभी तनाव की ओर इशारा करती भाव-भंगिमाएँ हैं। अगर कोई सिर के बालों को तोड़े-मरोड़ेनाखून काटेजमीन पर पैर से थाप देता रहे तब भी यह समझ लेना चाहिए कि वह भला व्यक्ति तनावग्रस्त है।

तनाव (टेंशन) से होने वाली बीमारीयां और नुकसान :

 तनाव मांसपेशियों में आकस्मिक फड़कन (ट्विचिंग) और गरदनकंधोंसिर तथा कमर में जकड़न एवं दर्द भी पैदा कर सकता है।
 तनावग्रस्त होने पर अच्छे-खासे व्यक्ति का व्यवहार बिगड़ जाता है।
 बेचैनीव्याकुलताचिड़चिड़ापनखीझअसामान्य क्रोधकाम में पूरी एकाग्रता न बननाठीक से नींद न आनाआदि तरह-तरह की परेशानियाँ आदमी को घेर लेती हैं।
 बेजा तनाव का आंतरिक अंगों पर भी असर पड़ता है। खूब पसीना आता हैमुँह सूखने लगता हैपेट में खलबली मची रहती हैचक्कर आ सकते हैंदिल की धड़कन और साँसें तेज हो जाती हैं और बेहोशी
भी आ सकती है।
 तनाव की एक बड़ी विशेषता यह भी है कि यह आपके व्यक्तित्व का हिस्सा बन जाता है। जो व्यक्ति हमेशा हड़बड़ी में रहता हैजरूरत से ज्यादा प्रतिस्पर्धा रखता हैहमेशा उग्र रवैया रखता हैक्षमता से अधिक काम हाथ में लेता रहता है और इतना उच्चाकांक्षी होता है कि उसके सपने कभी पूरे होने में ही नहीं आतेउसके तनाव-रुग्ण होने की आशंका सदा प्रबल रहती है।
                  लेकिन कोई चाहे तो अपने काम करने के ढंग और अपने व्यक्तित्व में छोटे-छोटे परिवर्तन लाकर जीवन को अधिक सहजस्वस्थ और सुरीला बना सकता है। यह बात गाँठ बाँध लेनी चाहिए कि बार-बार चिंतारोधी और प्रशांतक दवाएँ लेने या तनाव-रुग्ण रहने से जीवन का मजा अधूरा रह जाता है। आइये जाने तनाव से मुक्ति कैसे पाएँ

मानसिक तनाव दूर करने के उपाय :
            निम्नलिखित बातों पर कुछ समय अमल करके देखिए कि तनाव कैसे फुर्र से उड़ जाता है और जीवन उन्हीं परिस्थितियों में पहले से कितना बेहतर हो जाता है :

1-उतना ही काम हाथ में लें जितना कर सकें –
आधुनिक सभ्य समाज ने हम पर शालीनता और विनम्रता की एक ऐसी परत चढ़ा दी हैजिसके तले हम अक्सर ‘न’ नहीं कह पाते। अच्छा और लोकप्रिय बने रहने के लिए न चाहते हुए भी हम कई कामों के लिए हाँ कह देते हैं। बाद में उसके लिए समय खोज पाना या तो बहुत मुश्किल होता है या वह आगे की पूरी योजना को गड़बड़ा देता है। दोनों ही स्थितियाँ तनावकारी होती हैं। इससे अच्छा है कि कोई भी काम हाथ में लेने से पहले अपनी समय-सीमा और काम के औचित्य को ठीक से तौल लें। जो काम न कर सकते होंउसके लिए विनम्रता के साथ साफ-साफ मना कर दें। कोई भी भला आदमी आपकी विवशता समझ जाएगा और उसमें अगर यह समझ नहींतो उसकी खातिर खुद को तनाव में भला क्यों डुबोना !
क्षमता से अधिक काम सिर पर ले लेने से एक तो जब तक काम पूरे नहीं होतेतनाव बना रहता हैदूसरे मानसिक एकाग्रता भी भंग होती हैजिससे कोई भी काम ढंग से पूरा नहीं होता। इससे भी आंतरिक असंतोष पैदा होता है और काम न होने से प्रभावित व्यक्तियों से संबंधों में दरार अलग पैदा होती है।

2-काम की प्राथमिकताएँ तय कर लें-
आज की जिंदगी में हर कोई समय के दबाव में जीता है। काम अनगिनत हैंलेकिन समय सीमित है। ऐसे में तनाव से बचने के लिए अपने मन में प्राथमिकताएँ स्पष्ट रखकर चलना जरूरी है।
सभी कार्यों की फेहरिस्त बना लें और उनके आगे उनकी क्रमवार प्राथमिकता दर्ज कर लें। फिर एक के बाद एक काम करते चलें। इससे बहुत से काम एक साथ आ जाने पर भी आप पर दबाव नहीं बनेगा। वरना कई बार यही तनाव कि ‘मुझे इतना कुछ करना हैइसे मैं कैसे पूरा कर सकुँगा’सबसे बड़ा दुश्मन बन जाता है।

3-घड़ी की सुइयों से लड़ना छोड़ दें –
हर समय हड़बड़ी रखना ठीक नहीं। व्यवस्थित मन से धैर्यपूर्वक और लगन के साथ किया गया काम हमेशा अच्छा होता हैजबकि हड़बड़ी में किया गया काम न तो मुकम्मल होता हैन ही बहुत समय बचाताकुछ लोग अनावश्यक ही हर समय होड़ में पड़े रहते हैं ।
और मौका तलाशते रहते हैं कि कैसे दूसरों को अड्गी दें और उनका काम न होने दें या कैसे उनसे आगे निकलें । इस वैरपूर्ण स्पर्धा में कुछ नहीं रखा है। सुख अपने रास्ते पर आगे बढ़ने में ही है।

4-मन के हारे हार हैमन के जीते जीत –
सकारात्मक सोच ही सफलता की कुंजी है। इससे मन-मस्तिष्क को ऊर्जा मिलती है और समुद्र की स्फूर्त लहरों के समान फुर्ती।

5-योजनाबद्ध तरीके से काम करें-
जीवन में सुनियोजित ढंग से चलना हमेशा काम आता है। हो सकता हैहर योजना सफल न हो या उसमें बाधाएँ आएँपर इससे विचलित नहीं होना चाहिए। कर्मयोगी वही है जो जरूरत के मुताबिक अपने मेंअपनी कार्य-योजना में सुधार और बदलाव ला सके। मगर ऐसा भी न हो कि आप अपने लक्ष्य से पूरी तरह भटक जाएँ।
किसी भी योजना का प्रारूप कार्य-विशेष से सुनिश्चित होता हैपर कुछ सामान्य बातें हर जगह लागू होती हैंजैसे :
• सबसे पहले यह तय कर लें कि कार्य पूरा करने में क्या-क्या काम करने होंगे ?
• उनमें किस-किस किस्म की मदद चाहिए ?
• काम पूरा करने के लिए क्या-क्या साधन जुटाने हैं और ये कहाँ से कैसे जुट सकेंगे और उन पर क्या लागत आएगी ?
• काम पूरा करने में कितना समय लगेगा ?
• क्या-क्या बाधाएँ सामने आ सकती हैं और उनको कैसे दूर किया जा सकता है ?

6-अपनी तनाव-सीमा पार न करें –
जिस तरह हर व्यक्ति अपने में अलग हैउसी तरह हर किसी की तनाव-सीमा भी अलग है। कोई कम तनाव में ही टूटने लगता हैकोई बहुत तनाव भी हँसते-खेलते झेल जाता है। समझदारी इसी में है कि अपनी तनाव-सीमा पहचानें और उसकी लक्ष्मण-रेखा पार न होने दें।

7-आराम और मनोरंजन के लिए भी समय रखें –
काम-काज की ही तरह तफरीह और मौज-मस्ती के लिए भी समय निकालना बहुत जरूरी है। इससे मन-मस्तिष्क और शरीर फिर से खिल उठते हैं और नई स्फूर्ति पाने से तनाव से राहत मिलती है। लेकिन इसके लिए जरूरी है कि मन और आत्मा को कुछ समय के लिए बिलकुल खुला छोड़ दें।
कुछ लोग साल में एक बार पर्यटन पर निकल जाने को ही आराम करने का उपाय मान लेते हैंलेकिन यदि उसमें यात्रा-ही-यात्रा करनी पड़े और नजर घड़ी की सुइयों पर ही टिकी रहे तो यह किसी काम का नहीं।
                तनाव से बचना मुश्किल नहीं। जीवन में थोड़ा-सा अनुशासन गूंथ लेनेरोजाना हल्का व्यायाम करनेसंतुलित भोजन लेनेसात-आठ घंटे की नींद लेनेहँसने-खेलने और खुशी देनेवाली चीजें अपनाते रहने से जीवन स्वस्थ और भरा-पूरा रहता है।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ