February, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैंसभी दिखाएं
गौओं की रक्षा करना अपना परम कर्तव्य समझेँ।
अभिभावकों के लिए।
मन यदि संसार में उलझता है तो अपना सत्यानाश करता है।
मरो मरो सबको कहे,मरना न जाने कोई.....एक बार ऐसा मरो ,फिर मरना न होए .....
मूर्ति की पूजा क्योँ करते हैँ? स्वामी विवेकानंदजी और राजा।
भारत की पवित्र सनातन संस्कृति को पहचानें।
ऐसे आते हैं भगवान आपसे मिलने बस पहचानने की देर है.....
'हरि' की महिमा अपरम्पार
पूज्य आशारामबापू जी
डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी का सम्बोधन।
ज़्यादा पोस्ट लोड करें कोई परिणाम नहीं मिला